Sunday, June 28, 2020

जब हनुमान जी स्वयं बोले

तुम सोचते हो मैं केवल यही हूं ,
अब देखो मैं कहां नहीं हूं। 
मेरा विराट स्वरूप देखो, 
मेरा पर्वताकार रूप देखो ।

मुझे में धरती आकाश देखो, 
मेरा दिव्य प्रकाश देखो।
मेरी उन्नत ललाट देखो,
मेरे दशों ये हाथ देखो।

मेरे इन्हीं करों में शंख देखो,
वेद पुराण असंख्य देखो।
मेरा रूप तनिक विक्राल देखो,
हाथों में गदा, खड्ग और ढाल देखो।

हाथों में अग्निकुंड और भाल देखो,
मुझ में ही सारे काल देखो।
हाथों में निषंग और चाप देखो,
मुझ में भस्म होते सब पाप देखो।

मुझे अपने यत्र तत्र देखो,
मेरे विलग रूप सर्वत्र देखो।
सुदर्शन चक्र और त्रिशूल देखो,
मुझ में ही सृष्टि का मूल देखो।

मैं ही प्रभात, मैं ही निशा,
मैं आठो प्रहर चारों दिशा।
मिट्टी भी मैं, मीनार भी हूँ,
मैं ही सार नि:सार भी हूँ।

मैं सगुण और साकार हूँ,
मैं निर्गुण और निराकार हूँ।
मैं सगुण और निराकार भी हूँ,
मैं निर्गुण और साकार भी हूँ।

मैं ही प्रत्यक्ष, मैं ही परोक्ष,
मैं ही बंधन और मैं ही मोक्ष।
लेता जन्म सकल संसार मुझ में,
होता महासंघार मुझ में।

ज्वालामुखी और चक्रवात,
आँधियाँ, झंझारवात।
सृष्टि का सृजन और लय भी मैं हूँ,
आने वाला महाप्रलय भी मैं हूँ।

कंकर भी मैं हूँ, भयंकर भी मैं हूँ,
एकादश रुद्र शंकर भी मैं हूँ।
कल्प, युग मनोवन्तर भी मैं हूँ,
भीतर झांको, तुम्हारे अंतर में मैं हूँ।

यूँ तो मैं सारे संसार को नृत्य कराता हूँ,
पर प्रेम पाश में बंध जाता हूँ,
भाव से खिंच कर आता हूँ,
भक्ति के आगे झुक जाता हूँ।

अब अपना भय संकोच त्यागो,
जन्म अपना सुफल  जानों,
मुझ में मिटता सकल परिताप देखो,
विलीन होता शोक सन्ताप देखो।

यह देखो क्रोध का अब मरण,
यह देखो ग्लानि का हरण,
मुझ में सभी सम्बन्ध देखो,
जीवन के हर अनुबन्ध देखो।

मेरा शाश्वत संग देखो,
लो मित्रता भी अभंग देखो,
एक अचल अवलम्ब देखो,
शुभ लाभ का आरम्भ देखो।

यह देखो संकट का हरण,
यह देखो व्याधि का शमन।
घृणा द्वेष का अंत देखो,
मुझ में प्रीति अनंत देखो।

मिटते सभी अपवाद देखो,
मुझ में मधुर संवाद देखो।
अपनी एकाकी का नाश देखो,
शत्रुता का विनाश देखो।

जीवन का हर रंग देखो,
वीना और सारँग देखो,
डमरू और करताल देखो,
मुझ में सप्त सुर और ताल देखो।

मुझ में देखो असंख्य रामायण,
मुझ में देखो असंख्य कृष्णायण।
मुझ में देखो अनंत हरि- कथा,
मुझ में ही देखो भक्ति अथाह।

मेरा दृढ़ विश्वास देखो,
संशयों का नाश देखो।
पूरी होती अपनी आस देखो,
जीवन का उल्लास देखो।

मुझ में ज्ञान का भंडार देखो,
अविद्या का संघार देखो।
साहस का संचार देखो ,
भय दुर्बलता का संघार देखो।

मेरा हृदय उदार देखो,
वक्ष-स्थल विशाल देखो।
मेरे हृदय में सिया राम देखो,
करुना-निधान सुख-धाम देखो।

थमते द्वंद संग्राम देखो,
इस जग का विश्राम देखो।
 मुझ में विनय सम्मान देखो,
विसर्जित होता अपना अभिमान देखो।

क्षमायाचना और क्षमादान देखो,
प्राणिमात्र का कल्याण देखो।
फिर भी यदि मन किंचित सभय हो,
तो मेरे इन चरणों को देखो,

त्रास के भक्षण को देखो,
अपने संरक्षण को देखो।
इनमें शन्ति का वास देखो,
लो इनमें अपना भी निवास देखो,

मेरी करुणा मेरा वात्सल्य देखो,
अब मेरा चांचल्य देखो।
तुम मेरे उस निर्मल स्वरूप को देखो,
तुम मेरे बालरूप को देखो।

देखो मुझे जैसे तुमने भजा है,
चंदन का तिलक माथे पर सजा है।
मेरा सौहार्द मेरी प्रीति देखो,
अपने भ्राता महावीर देखो।

   ©अनंता सिन्हा
12. 10. 2017






55 comments:

  1. Fantastic. Absolutely Fantastic.
    It is more than a poem. It is a prayer.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thank you Mamma. You are my first visitor.
      Hope this prayer brings health and happiness in everyone's life who reads it and who doesn't read it too .

      Delete
  2. Very very beautifully written Ananta..Bhaav aur shabd donon hi rochak hain..Bajrangbali ko is swaroop me dekhna hi vilakshan hai!

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thank you so oooo much bhaiya. Haan, main bhi maanti hun ki maine yah kavita likhi nahin, hanuman ji ne swayam llikh vaayi hai.
      Also please keep visiting my blog as I will continue to upload more and more.

      Delete
  3. बहुत अच्छी कविता। अनंता बहुत बहुत बधाई। और भी कविताएं लिखिये।

    ReplyDelete
  4. Very Beautifully expressed ❤️ You are Blessed and always stay blessed.

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद।अपनी शुभ कामनाएं और अपना स्नेह सदैव बनाये रखिये और मेरे ब्लॉग पर आते रहिएगा

      Delete
    2. क्या आप प्राजक्ता आंटी हैं?

      Delete
  5. Wow one can't express so detailed without observing passionately for Hanuman. It was not only poetic but informative to me. Well expressed. Keep writing Kavyata!!!! :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. आंटी , आपका बहुत बहुत धन्यवाद। अपना स्नेह व आशीष बनाये रखियेगा और आती रहिएगा। और हाँ, मेरा भी मानना है कि यह स्तुति हनुमान जी ने स्वयं ही मुझसे लिखवायी है।

      Delete
  6. Speechless! I am 🙏 you are an amazing poet and the choice of every word is perfect! Ananta, I am so happy to read this standard of language that I will be reciting this in my club very soon.. Of course with credits to you ❤️ God bless you and bless you to continue this सेवा of my मातृभाषा

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी इतनो सुंदर प्रतिक्रिया पढ़ कर मुझे बहुत आनंद मिला। अपने स्नेह व आशीष के लिए धन्यवाद। मुझे बहुत खुशी है कि आप मेरी यह कविता अपने क्लब में शेयर करके एयर लोगों तक पहुंचने का पर्यटन करेंगे। यदि आपका परिचय मिल जाये तो मैं आभारी रहूंगी।

      Delete
  7. Super fabulous !!!! Something I know from before. You are so gifted and so inspiring !! MashaAllah great !! May you achieve greater achievement nad finesse in all that you write and do. Love you so😍🌹you are a star🤩🤩

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बहुत बहुत धन्यवाद मासीजान। अपना सबह और आशीष बनाए रखियेगा। मेरी और सभी मासिजान, मामोजान और मामी जान को भी सुनियेगा।

      Delete
  8. Beautifully expressed... this is a complete prayer!
    You are so talented Ananta... blessings and love to you beta, keep shining and excelling and surprise us with these wonderful poems!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत प्यारी प्रतिक्रिया। अपना आशीष व स्नेह बनाये रखने के लिए धन्यवाद। आपके शब्दों बे नेरा उत्साह बढ़ाया है और मुझे प्रेरित किया है। मेरे ब्लॉग पर आते रहिएगा।

      Delete
  9. So beautifully written! Your love for Lord Hanuman shines through your words. May he always bless you and protect you. You are a talented child. God bless!
    Rujuta Kelkar

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बहुत बहित धन्यवाद आंटी। अपना आशीर्वाद व स्नेह बनाये रखियेगा हर मेरे ब्लॉग पर आती रहिएगा।
      मैं और भी कविताएं डालती रहूंगी, आपको जानकारी मिल जाएगी

      Delete
  10. Hey....very powerful and peaceful way to shrug our stress from find....God bless you

    ReplyDelete
    Replies
    1. अंकल आपका बहुत बहुत धन्यवाद। मुझे खुशी है कि मेरी रचनाओं ने किसी का मन शांत और सुखी किया।
      वास्तव में यह श्रेय श्री हनुमान जी को जाता है जिन्होंने मुझ पर यह जरिप कि की मैं उनकी स्तुति कर पायी।

      Delete


  11. Hey....very powerful and peaceful way to shrug our stress from mind....God bless you


    ReplyDelete
  12. Ananta you have presented worlds 1st superman Hanumanji in such a simple way that any one can relate with him.
    He is my best freind too.
    👌😊

    ReplyDelete
    Replies
    1. उर्मिलाआंटी, आपका बहुत बहुत धन्यवाद। अपना स्नेह और आशीर्वाद बनाये रखियेगा और मेरे ब्लॉग पर आते रहियेगा।

      Delete
  13. Very beautifully written . I really enjoyed reading. U have been reflecting ur great love Lord Hanuman. U are as innocent as ur Hanuman my dear Hannu. Love you sweetheart. Always stay blessed.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thank you for such lovely words of encouragement and blessings. I am truly touched. Please be kind enough to mention your name in the comment box so that I may know you

      Delete
  14. Ati Sundar, beta. Yeh poem nahin, stuti hai Hanumanji ki.May Lord Hanuman bless you always. Bahut likho aur achcha likho!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. माँ, तुम्हारा बहुत बहुत धन्यवाद। तुम मेरी पहली प्रेणा स्रोत हो और मेरी सभी कविताओं और कहानियों की पहली श्रोता। लव यू,😙😘😘😘😘

      Delete
  15. Ananta my compliments to you for writing such a beautiful poem.on Hanumanji Your infinite love and devotion will surely sail you this sansara God n Guru bless you

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपके सुंदर शब्दों एवं आशीष के लिए बहुत बहुत धन्यवाद। अपना स्नेह मुझ पर बनाये रखियेगा और आते रहिएगा। आपके शब्दों ने मेरा उत्साह भी बढ़ाया और संकोच भो दिया क्योंकि इस स्तुति को लिखने में मेरी योग्यता नहीं, हनुमान जी की कृपा को श्रेय जाता है।

      Delete
    2. आपके सुंदर शब्दों एवं आशीष के लिए बहुत बहुत धन्यवाद। अपना स्नेह मुझ पर बनाये रखियेगा और आते रहिएगा। आपके शब्दों ने मेरा उत्साह भी बढ़ाया और संकोच भो दिया क्योंकि इस स्तुति को लिखने में मेरी योग्यता नहीं, हनुमान जी की कृपा को श्रेय जाता है।

      Delete
  16. Attributes of hanumaaanji are so well expressed using each word very carefully... lovely poem...m always proud of u

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका भर बहुत धन्यवाद। अपना स्नेह व आशीष बनाये रखियेगा। हाँ, यह स्वयं हनुमान जी की ही कृपा है कि मैं उनका वर्णन कर पायी, उनके कृपा के बिना अम्भव नहीं था।

      Delete
  17. Beautifully written. Thoroughly enjoyed reading every word. You have brought out the powerful spiritual light. Almost a prayer. God bless you my dear. Keep writing.

    ReplyDelete
    Replies
    1. आंटी अपने आशीष के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद।इस स्तुति को लिखने में मेरी योग्यता कोनहीं श्री हनुमान जी की कृपा को श्रेय जाता है। आप अपना आशीष बनाये रखियेगा और आती रहिएगा।

      Delete
  18. Well done Ananta! God Bless you beta

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद। अपना स्नेह व आशीष बनाये रखियेगा और आते रहिएगा

      Delete
  19. Dear Ananta,

    Tum itni badi kab ho gayi....you have left behind bade bade kabi...shabdo or bhavnao ka itna sundar chayan....i m so very proud of you....tum bahut upar tak jaogi...meri sari blessings tumhare saath hain
    Love Dipti Aunry

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरी प्यारी सी आंटी, आपके आशीष और प्रोत्साहन के लिये हृदय से आभार।
      परन्तु कवियों को पीछे छोड़ने में तो बहुत समय है। अभी तो मुझे अपने देश के कवियों को पढ़ना और समझना है।
      और यह भी बात है की इस स्तुति को लिखने में मेरी योग्यता नहीं, हनुमान जी की कृपा कारगर जिन्हों ने मुझ से अपनी स्तुति लिखवायी और अपने विराट रूप का वर्णन करवाया

      Delete
  20. Arre wah Beta ji 👌🏼👌🏼👌🏼 you are a true soul for having written this beautiful poem/prayer and your thinking for your age is just far out👏🏼👏🏼👏🏼
    May God bless you with every success in life 🙌🏼💞 love you xoxox

    ReplyDelete
    Replies
    1. अपनी इतनी स्नेह भरी शुभकामना के लिये आपका हृदय से आभार। अपना स्नेह व आशीष बनाये रखियेगा।
      मैं बहुत ही भाग्यशाली हूँ कि मुझे आप सबों जैसे बड़े मील जो पग पग पर मुझे प्रोत्साहित करते हैं और आशीष देते हैं। मेरी सभी सफलताएँ इसी के परिणाम है।

      Delete
  21. वाह! हनुमान जी का अखंड आशीष आपको मिले। दिनकर के 'रश्मीरथि' में भगवान कृष्ण ने जब अपना विराट रूप दिखाया उसके वर्णन का स्मरण हो आया आपकी रचना पढ़कर।

    ReplyDelete
    Replies
    1. अपने इस आशीष के लिए आपका हृदय से आभार। मुझे आपकी यह सुंदर प्रतिक्रिया पढ़ कर प्रसन्नता भी हुई और संकोच भी हुआ।प्रसन्नता इसीलिए क्योंकि मेरी रचना ने आपको मेरे आदर्श दिनकर जी का स्मरण कराया और संकोच इसीलिए की अभी मुझे इस स्तर तक पहुंचने में बहुत समय की मवड़ी रचना थोड़ी भी उनके निकट हो पाये ।

      Delete
  22. Very good poem. Very thoughtful thought. Keep on influencing people with such good thoughts. Well done beta

    ReplyDelete
  23. Oho, aag laga dala!!!
    Jokes aside, the poem is so well structured and sort of musical. Fantastic work ananta. Best of luck

    ReplyDelete
  24. वाह , प्रिय अनंता , बहुत ओज है आपकी लेखनी में और आपको बहुत ज्ञान भी है अध्यात्मिक विषयों का | हनुमत बजरंगी पर इस रचना के लिए आपको बहुत शुभकामनाएं और प्यार |

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया मैम,
      आपके प्यार भरे शब्द हमेशा ही मन में आनंद भर देते हैं। आपके स्नेह के प्रति आभार व्यक्त करने के लिए तो मेरेपास सजबद नहीं है। आप ने मेरी हर एक कविता पढ़ी और प्रतिक्रिया दी।
      आपका यही स्नेह और आशीष अमूल्य है। आती रहिएगा। आभार।

      Delete
  25. प्रिय अनंता आभार देना भी सीखिए |

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, मैम। इस बार प्रतिक्रियाओं का उत्तर देने में बहुत देर लग गयी। परीक्षा के चलते ब्लॉग पर उतना समय नहीं दे रही थी। अब से ऐसा नहीं होगा। आपकी यह सीख हमेशा याद रखूंगी। आपकी छोटी सी डाँट खाके अच्छा बहुत लगा। आपका यह स्नेह और आशीष मिझे हमेशा ही मिलता रहे। धन्यवाद।

      Delete
  26. बोहोत ही अद्भुत कविता, हम भी हिंदी में लिखते हैं हमारे ब्लॉग पर भी जरूर आएं प्रेरणादायक सुविचार

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय सर ,
      सब से पहले तो मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है और अपने मुझे अपने ब्लॉग पर निमंत्रित किया, इसके लिए आभार। पता नहीं कैसे आपकी टिप्पणी मेरे मेलबॉक्स तक आयी नहीं , सो मेरी नज़र में नहीं आयी। देर से उत्तर देने के लिए क्षमा।

      Delete
  27. प्रिय अनंता -- मेरे मेल
    renu550@gmail.comपर मुझसे जुडो |

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया मैम,
      बिलकुल, अभी लिखती हूँ।
      अनुमति देने के लिए बहुत बहुत आभार।

      Delete

जन्माष्टमी विशेष

जब कान्हा आए .................. (कहानी )

  तेरह साल की रेणुका अपनी दादी  के साथ भागवत कथा सुनने द्वारिकाधीश आयी थी। ऐसे तो उसके माता-पिता साथ आते पर उन्हें दफ्तर का कुछ ज़रूरी काम आ ...