Saturday, November 21, 2020

यदि तुम मुझ से मित्रता करना...................





 यदि तुम मुझ से मित्रता करना,

तो केवल  मित्रता के लिए करना। 

मुझे मेरी अच्छाइयों और बुराइयों के साथ अपनाना,

हाँ, बाद में तुम मेरी बुराइयाँ  सुधार देना। 


 तुम मुझसे मित्रता इसलिए मत करना,

 क्यूँकि  मैं हिंदी में अच्छी हूँ। 

क्यूंकि यह जान कर  तुम मुझ से मित्रता तोड़ दोगे,

मैं गणित में बहुत ही बुरी हूँ।  


तुम मुझ से मित्रता मेरी सहायता मांगने के लिए मत करना,

ना ही  मेरी सहायता करने के लिए करना। 

यदि  मुझ से मित्रता  करना,

तो उसे कभी मत तोड़ना। 


यदि तुम मुझ से मित्रता करना,

तो मुझे मेरी भूल ज़रूर बताना,

मेरा गलत काम में साथ मत देना।


मुझे टूटने मत देना ,

मुझे भटकने मत देना, 

मुझ पर संदेह मत करना ,

मुझे हमेशा क्षमा करना ,

और मुझ पर अपनी मित्रता का अधिकार हमेशा जताना। 


हम जब भी मित्रता करेंगे,

उस स्नेह के लिए करेंगे  जो हम एक -दुसरे को देंगे,

उस आनंद के लिए जो हम एक साथ समय बिता कर  पायेंगे,

उन खेलों के लिए  जो हम एक साथ खेलेंगे ,

उस विनोद के लिए जो हम एक साथ  करके हँसे- हंसाएँगे,

उस मानसिक बल के लिए जो हम एक -दुसरे से पाएँगे,

उस साथ के लिए जो हम सदा निभायेंगे। 


© अनंता सिन्हा । 


 

जन्माष्टमी विशेष

जब कान्हा आए .................. (कहानी )

  तेरह साल की रेणुका अपनी दादी  के साथ भागवत कथा सुनने द्वारिकाधीश आयी थी। ऐसे तो उसके माता-पिता साथ आते पर उन्हें दफ्तर का कुछ ज़रूरी काम आ ...